मायावती को पुराने सरकारी बंगले को छो’ड़कर जाना होगा, राष्ट्रीय पार्टी होने की वजह से..

May 28, 2022 by No Comments

बहुजन समाज पार्टी यूँ तो राष्ट्रीय पार्टी है लेकिन इसका मुख्य जनाधार उत्तर प्रदेश में रहा है. उत्तर प्रदेश ही ऐसा राज्य है जहाँ पार्टी कई बार सत्ता में रही. बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्षा सुश्री मायावती चार बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री रहीं. मायावती अनुसूचित जाति से आने वाली देश की पहली मुख्यमंत्री रही हैं.

मायावती की साख अपने समाज में पूरे देश में है. दलितों के बड़े वर्ग में उनकी अच्छी पैठ है. हालाँकि पिछले कई चुनावों में बसपा लगातार हार का सामना कर रही है, हालत ये आ गई है कि उत्तर प्रदेश में पार्टी की महज़ एक विधानसभा सीट रह गई है. यही वजह है कि पार्टी अब राज्यसभा में अपना कोई नेता नहीं भेज पाएगी.

मायावती को दिल्ली में सरकारी बंगला मिला हुआ था. उन्हें त्यागराज रोड पर टाइप 8 वाला बड़ा सरकारी घर मिला था, जो आम तौर पर सीनियर मंत्रियों और सुप्रीम कोर्ट के जज को ही मिलता है. मायावती अभी किसी सदन की सदस्य नहीं है. फिर भी पिछले पांच सालों से उन्होंने ये घर अपने पास रखा था.

त्यागराज रोड पर बीएसपी सुप्रीमो मायावती को 3 नंबर का सरकारी बंगला मिला था. मायावती को मोदी सरकार की तरफ़ से अब लोदी इस्टेट में 29 नंबर का घर मिला है. पार्टी के महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा अब तक इस घर में रहते थे. सतीश चन्द्र मिश्रा की राज्यसभा सदस्यता जुलाई में समाप्त हो रही है. ऐसे में अब ये बंगला मायावती को आवंटित कर दिया गया है. बहुजन समाज पार्टी एक राष्ट्रीय पार्टी है, इस कारण मायावती को दिल्ली में बंगला मिलना होता है.

वहीं बसपा के कुछ नेता ये भी कह रहे हैं कि इस घर में सतीश चन्द्र मिश्र का परिवार ही रहेगा. मायावती ने 2017 में राज्य सभा से इस्तीफ़ा दे दिया था. तब उन्हें रिटायर होने में 9 महीने का समय बाक़ी था. लेकिन संसद में बोलने का मौक़ा न दिए जाने का आरोप लगा कर उन्होंने इस्तीफ़ा दे दिया था. पर सरकारी बंगला उन्होंने नहीं छोड़ा.

वैसे तो इस हालात में घर ख़ाली करने का नियम है लेकिन केंद्र सरकार ने उन्हें इस बंगले को ख़ाली करने के सम्बन्ध में कोई notice नहीं दिया. दिल्ली में सरदार पटेल मार्ग पर मायावती के पास दो बंगले हैं. बीएसपी के सूत्रों ने बताया कि हो सकता है कि वे अपने ही घर पर रहें. अभी फ़ैसला होना बाक़ी है.

Leave a Comment

Your email address will not be published.