मुख्तार अंसारी को मिली ज़मानत, रिहाई से संबंधित निर्देश बांदा जेल भेजा गया, लेकिन अभी भी…

February 16, 2022 by No Comments

उत्तर प्रदेश में जारी चुनावी घमासान के बीच बांदा जेल बड़ी खबर सामने आई है आपको बता दें में बांदा जेल में बंद मऊ सदर सीट से विधायक मुख्तार अंसारी के लिए राहत भरी ख़बर आई हूं बुधवार को मऊ में गैंगेस्टर एक्ट के मामले में विशेष न्यायाधीश MP/MLA दिनेश कुमार चौरसिया की अदालत ने मुख्तार अंसारी को एक लाख के निजी मुचलके पर रिहा करने का आदेश दे दिया।मीडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ हालांकि इस आदेश के बाद भी मुख्तार अंसारी को अन्य गंभीर मामलों के कारण जेल में ही रहना होगा।

दक्षिणटोला थाना क्षेत्र के गैंगेस्टर एक्ट के मामले में मुख्तार अंसारी की पेशी वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से हुई है। मुख्तार अंसारी को गैंगस्टर एक्ट के मामले मे रिहा करने की अर्जी पर विशेष न्यायाधीश एमपी/एमएलए दिनेश कुमार चौरसिया ने जेल अधीक्षक बांदा से आख्या तलब की थी।इसपर जेल अधीक्षक ने अपनी आख्या कोर्ट में भेजकर अवगत कराया कि मुख्तार अंसारी अपराध संख्या 891 सन 2010 एसटी नंबर 2/12 मे दिनांक नौ सितंबर 2011 से अब तक न्यायिक अभिरक्षा में है।

मुख्तार अंसारी के प्रार्थना पत्र पर उनके अधिवक्ता दारोगा सिंह और अभियोजन पक्ष को सुनने के बाद विशेष न्यायाधीश एमपी/ एमएलए ने मुख्तार अंसारी को रिहा करने की अर्जी को स्वीकार कर लिया।  मुख्तार अंसारी को एक लाख रुपये के निजी मुचलका दाखिल करने पर रिहा करने का आदेश दिया। साथ रिहाई संबंधित निर्देश अभिलंब बांदा जेल भेजे जाने का आदेश दिया।

 

सदर विधायक मुख्तार अंसारी के अथिवक्ता दारोगा सिंह ने बताया मुख्तार अंसारी की तरफ से एक बन्दी प्रत्‍यक्षी रिट याचिका उच्च न्यायालय मे दी गयी थी। जिसमें कहा गया कि आरोपी मुख्तार नौ सितम्बर 2011 से दक्षिण टोला थाने के गैंगस्टर मामले में जेल में निरूद्ध है। जबकि उक्त मामले में दस साल की अधिकतम सजा होती है। उससे ज्यादा समय से आरोपी जेल में है। उनकी तरफ से यह कहा गया कि उनके संवैधानिक अधिकारों का हनन है

Leave a Comment

Your email address will not be published.