हमारे नबी ए करीम (स.अ.व.) की वो मुबारक बातें, जिसे हर मुसलमान को जानना बेहद ज़रूरी हैं…

April 14, 2021 by No Comments

इस्लाम में बहुत छोटी छोटी बातों को अहमियत दी जाती है। कुरान में हमारे नबी ए करीम सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने मुसलमानों के लिए कई ऐसी बातों को दर्जी देने के लिए कहा है। जिससे उनकी जिंदगी पर अच्छा और बुरा प्रभाव पड़ता है।

अल्लाह के रसूल पैगंबर हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कहा है कि यह चार चीजें इंसान की सेहत को खराब करती हैं। इसलिए इनसे बचना चाहिए। जब आप किसी से बहुत ज्यादा देर तक लंबी बात करते हैं, तो बातों बातों में आप दूसरे लोगों की बुराइयां करना उनकी चुगली करना। इस तरह की बातें आम हो जाती हैं।

हमें इस बुराई से बचना चाहिए क्योंकि कभी-कभी इस तरह की छोटी मोटी बातों से लोगों के दिलों में आपसी दरार पैदा हो जाती है, जो नुकसानदायक है। बहुत ज्यादा देर तक सोने की वजह से भी आपको अपने रोजमर्रा की जिंदगी में नुकसान होने की संभावना बनी रहती है। कई बार आप अपने काम ठीक तरह से नहीं कर पाते, या फिर जरूरी कामों को करने से रह जाते हैं।

ज्यादा देर तक सोने का सबसे बड़ा नुकसान आपको सेहत का होता है। ज्यादा ज्यादा सोने की वजह से आप आलसी हो जाते हैं और बी’मारि’यां आपको जकड़ लेती हैं। अक्सर कई दफा देखा गया है की कोई कोई इंसान अपनी भूख से कई गुना ज्यादा खाना खाते हैं। कभी किसी शादी में या फिर किसी जलसे में।

कुछ लोग अक्सर दावत में अपनी भूख से बहुत ज्यादा खाने की आदत से मजबूर होते हैं। लोगों में खामी अक्सर पाई जाती है। आपको अपनी भूख से थोड़ा सा कम ही खाना चाहिए यह आपके सेहत के लिए बिल्कुल भी ठीक नहीं है| जरूरत से ज्यादा खाना भी एक तरह का जहर ही होता है।

ऐसे लोगों से मिलना जिनसे हमें दूर दूर तक कोई वास्ता ना हो, ऐसे लोगों से हमेशा दूरी बनायें रखें। इन चीजों से हमेशा दूर रहने में ही भलाई है य बिला वजह आपकी सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं। आपके लिए बरकत और खुशहाली के लिए बहुत शक्तिशाली दुआ भेजी गई है।

सोचिए अगर आपकी वजह से इस दुआ को कए लोग इसे सिर्फ आपकी वजह से पढ़ें तो आपको कितना सबाब मिलेगा। 100 में से 99 बीमा’रियों के मर्द की दवा है, कलौंजी जैसे भी हो इसको अपने खाने में किसी ने किसी तरह से इस्तेमाल में जरूर लाएं।

 

अनार के हर दाने में जन्नत के पानी की बूंद जरूर होती है और जिस घर में खजूर होता है उस घर में कभी फ़ाका नहीं पड़ता| (यानी के कोई भूखा नहीं सोता)पांच वक्त की नमाज का पाबंद मोमिन, उसके रिज्क की जिम्मेदारी अल्लाह अपने ऊपर ले लेते हैं। बिस्मिलाहिराहमानिर्रहीम: अबू हुरैरह रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है रसूल-अल्लाह सललाल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया जब ईमाम: (سَمِعَ اللَّهُ لِمَنْ حَمِدَهُ) समी अल्लाहू लेमन हामेदा।

कहे तो तुम (اللَّهُمَّ رَبَّنَا لَكَ الْحَمْدُ)अल्लाहुम्मा रब्बना लकल हम्द कहो क्यूंकी जिसका ये कहना फरिश्तों के कहने के साथ होगा। तो उसके पिछले तमाम गुनाह बख़्श दिए जाएँगे| सही बुखारी, जिल्द 1, 796 हदीस शरीफ़ः सय्येदेना आला हज़रत इमामुल अंबिया ए वलमुरसलीन प्यारे नबी सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया कि 15 शाबान की रात में अल्लाह तआला सब से क़रीब आसमान की तरफ़ नुजू़ल फ़रमाता है।

और मुशरिक, दिल में कीना रखने वाले, रिश्तेदारियों को तोड़ने वाले, और बदकिरदार औरत के अलावा तमाम लोगों को बख्श देता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *