CAA और NRC के ख़िला’फ़ देश भर में प्रद’र्शन चल रहे हैं और कई जगह हिं’सा भी हो रही है। इस बीच अल’ग-अल’ग पार्टी की ओर से CAA के ख़िला’फ़ ब’यान आ रहे हैं। हाल ही में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश पटेल ने घो’षणा की कि “अगर ये निय’म ला’गू हो जाता है तो मैं पहला आदमी होऊँगा जो उस रजिस्टर में द’स्तखत नहीं करूँगा, फिर सर’कार जो चाहे कर ले..” इसके साथ ही NRC को उन्होंने महात्मा गांधी के सामने आए दक्षिण अफ़्रीका के क़ा’नून की तरह बताते हुए कहा कि “यह उसी प्रकार का का’नून है जैसे अंग्रेजों ने दक्षिण अफ्रीका में वर्ष 1906 में लागू किया था जिसका महात्मा गांधी ने विरो’ध किया था और कहा था कि वह रजि’स्टर में द’स्तखत नहीं करेंगे और न ही उँगलियों के निशा’न देंगे। मैं भी इस माम’ले में गांधी जी के पथ पर चलूँगा”

कांग्रेस नेता भूपेश बघेल ने नागरि’कता संशो’धन क़ा’नून को संवि’धान के ख़िला’फ़ बताते हुए कहा कि “जिस तरह महात्मा गांधी ने वर्ष 1906 में अफ्रीका में अंग्रेजों के का’नून का विरो’ध किया था, ठीक उसी तरह मैं भी एनआरसी का विरो’ध कर रहा हूँ। आप गांधीजी की 150 वीं वर्षगां’ठ मना रहे हैं और बार- बार गृहमंत्री अमित शाह कह रहे हैं कि वह देश में एनआरसी लागू करेंगे।”

Bhupesh Baghel

भूपेश बघेल ने इस ऐक्ट को भी जनता के लिए उतनी ही परे’शानी से भरा बताया जैसा नोटबं’दी के दौ’रान हुआ था उनका कहना है कि CAA और NRC जनता की परे’शानी बढ़ा’ने का काम करेंगे। उन्होंने कहा कि “हमें प्रमा’णित करना पड़ेगा कि हम भारतीय हैं और यदि कोई भारतीय किसी कार’ण से यह प्रमा’णित नहीं कर पाया तो उसे देश में किस प्रकार से रखा जाएगा।”

बघेल ने इस विधेयक के कार’ण जनता के सामने आने वाली परेशा’नियों के बारे में बात करते हुए कहा कि “यदि देश में एनआरसी लागू हुआ तो छत्तीसगढ़ की आधे से ज़्यादा जनता अपनी नागरि’कता प्रमा’णित नहीं कर पाएगी। छत्तीसगढ़ में दो करोड़ 80 लाख लोग हैं और उनमें से आधे से अधिक लोग अपनी नागरि’कता प्रमा’णित नहीं कर पाएंगे क्योंकि उनके पास ज़मीन का रिका’र्ड नहीं है और कई लोगों के पास ज़मीन ही नहीं है। उनके पूर्वज पढ़े लिखे नहीं हैं। उनमें से कई दूसरे गांवों या राज्यों में चले गए हैं। वे 50-100 साल का रिका’र्ड कहाँ से लाएँगे। यह अनाव’श्यक बो’झ है।

Rahul Gandhi- Bhupesh Baghel

भूपेश बघेल ने सर’कार की मं’शा पर सवा’ल उठाते हुए कहा कि जो किया जा रहा है वो ग़ल’त है उन्होंने कहा कि नाग’रिकों के साम’ने इस तरह की स्थिति लाने की क्या ज़रूरत है। उन्होंने इस बात पर कहा कि “यदि घुसपै’ठिए इस देश में हैं, तो उन्हें पक’ड़ने के लिए बहुत एजेंसियां हैं। उन्हें पक’ड़ें और उनके ख़िला’फ़ कार्र’वाई करें लेकिन इस तरह वे (भाजपा) आम जनता को कैसे परेशान करेंगे?”

Leave a Reply

Your email address will not be published.