हैदराबाद: तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के सरूरनगर में हुई ऑनर कि’लिं’ग ने देश को झ’कझोर दिया है. इस घटना पर अब आल इंडिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदउद्दीन ओवैसी ने बयान दिया है. उन्होंने इस घटना की निं’दा करते हुए कहा कि ये संविधान और इस्लाम दोनों के अनुसार ग़लत है. उन्होंने कहा कि संविधान और इस्लाम के अनुसार “अ’पराधिक कृ’त्य” है.

असदउद्दीन ओवैसी ने कहा,“हम सरूरनगर में हुई घटना की निं’दा करते हैं. महिला ने स्वेच्छा से शादी करने का फैसला किया. महिला के भाई को उसके पति को मा’रने का कोई अधिकार नहीं है. यह एक आपरा’धिक कृ’त्य है. संविधान और इस्लाम के अनुसार सबसे खराब अपराध है.” उन्होंने कहा, “इस घ’टना को कल से एक और रंग दिया जा रहा है. क्या यहां की पुलिस ने आरो’पी को तुरंत गिर’फ्तार नहीं किया? उन्होंने उसे गिरफ्ता’र कर लिया है. हम ह’त्यारों के साथ खड़े नहीं हैं.”

इसके अलावा जहांगीरपुरी और खरगोन में सां’प्रदायिक हिं’सा की घ’टनाओं के बारे में बात करते हुए असदुद्दीन ओवैसी नेकहा, “मैं कहना चाहता हूं कि मस्जिद पर हाई रेजोल्यूशन सीसीटीवी लगाया जाना चाहिए और जब भी कोई जुलूस निकलता है, तो उसका फ़ेसबुक पर लाइव टेलीकास्ट भी हो ताकि दुनिया को पता चले कि कौन पत्थर फेंक रहा है.”

बता दें कि 25 वर्षीय नागराजू की बुधवार को एक व्यस्त चौराहे पर पी’ट-पी’टकर ह’त्या कर दी गई थी. आरोपियों में अशरीन का भाई भी शामिल है, घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वाय’रल हो गया था. बुधवार रात नागराजू और अशरीन अपनी बहन के घर से ब्रुंडवन कॉलोनी स्थित अपने घर जा रहे थे, तभी उन पर ह’मला किया गया. हैदराबाद पुलिस ने मामले में दो मुख्य आ’रोपियों मुबीन अहमद सैयद और एक अन्य रिश्तेदार एम मसूद अहमद को गि’रफ्तार कर लिया है.