इस नेता ने दिया भाजपा को दिया बड़ा झटका, समर्थकों संग छोड़ी पार्टी, कांग्रेस में हो…

April 22, 2021 by No Comments

बीते साल से दिल्ली हरियाणा और उत्तर प्रदेश में चल रहे किसान आंदोलन के कारण भारतीय जनता पार्टी को काफी नुकसान हो चुका है। खासतौर पर हरियाणा में सत्तारूढ़ मनोहर लाल खट्टर की सरकार को। बीते साल जब किसान आंदोलन शुरू हुआ था।

तब से ही राज्य के किसानों द्वारा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के इस्तीफे की मांग की जा रही है और कई एनडीए की सहयोगी पार्टियां अलग भी हो चुकी है। अब खबर सामने आ रही है कि हरियाणा के ऐलनाबाद से भारतीय जनता पार्टी को एक बड़ा झटका लगा है। भाजपा के टिकट पर इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला के सामने ऐलनाबाद से चुनाव लड़ चुके पवन बेनीवाल ने भी मंगलवार को भाजपा से अपना रिश्ता तोड़ लिया है।

दरअसल पवन बेनीवाल ने किसान आंदोलन के समर्थन में अपने समर्थकों के साथ भाजपा छोड़ने का ऐलान किया है। उन्होंने कहा है कि वह भी किसान परिवार से जुड़े हुए हैं। बीते लंबे समय से देश के किसान दिल्ली हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर बैठे हुए हैं और केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार उनकी कोई सुनवाई नहीं कर रही है।

इससे दुखी होकर उन्होंने पार्टी को छोड़ने का फैसला कर लिया है। बताया जाता है कि भाजपा से अलग होने के बाद पवन बेनीवाल के कांग्रेस में शामिल होने की चर्चाएं भी शुरू हो गई है। गौरतलब है कि केन्द्र सरकार के कषि कानूनों के वि’रोध में बड़ी संख्या में किसान दिल्ली से सटे बॉर्डर पर धरना दे रहे हैं। किसानों की एकता से कई नेताओं पर द’बाव बढ़ रहा है।

इसी बीच इनेलो नेता अभय चौटाला के सामने ऐलनाबाद हल्के से चुनाव लड़ चुके पवन बेनीवाल ने मंगलवार को भारतीय जनता पार्टी को छोड़ दिया है। इस मामले में मीडिया से बातचीत करते हुए पवन बेनीवाल ने कहा कि उन्होंने किसानों के समर्थन में भाजपा को अलविदा कहा है। वो एक राजनीतिक है।

उन्होंने राष्ट्रीय पार्टी को छोड़ा है, इसलिए वो किसी राष्ट्रीय पार्टी में शामिल होंगे। आपको बता दें कि पवन बेनीवाल ऐलनाबाद विधानसभा सीट से 2 बार भारतीय जनता पार्टी की टिकट से चुनाव लड़ चुके हैं। दोनों बाहर ही पवन बेनीवाल का सामना इनेलो नेता अभय चौटाला से हुआ था।

दोनों चुनावों में ही पवन बेनीवाल को हार का सामना करना पड़ा है। हाल ही में इनेलो नेता अभय चौटाला ने भी ऐलनाबाद विधानसभा सीट से इस्तीफा दिया था। जिसके बाद अब हल्के में विधानसभा चुनाव होना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *