राजिस्थान में चल रही सियासी घ’मासान दिन ब दिन बि’गड़ती जा रही है। इसी के चलते राजिस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक बड़ा बयान दिया है। सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि, अगर सचिन पायलट वापस लौटने का फैसला करते हैं, तो मैं उन्हें गले लगाकर स्वागत करूंगा। और सीएम अशोक गहलोत ने न्यूज़ के एक चैनल से बात चीत में अपने और सचिन पायलट के रिश्ते के बारे में बात की। उन्होंने कहा कि, सचिन पायलट को उन्होंने तब से देखा है जब वह 3 साल के थे।

सीएम अशोक गहलोत का कहना है कि पिछले एक साल से उनकी सचिन पायलट के साथ कोइ बातचीत नही हुई है, और उनका कहना है कि सचिन उनकी सरकार के खि’लाफ सा’ज़िश कर रहे थे, और कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी ये बात अच्छी तरह से जानते है कि में सचिन पायलट के खि’लाफ नहीं हूं। सीएम अशोक गहलोत द्वारा कहा गया कि, सचिन पायलट ने बीते डेढ़ साल से बातचीत नहीं की है। हम लोग टॉकिंग टर्म पर नहीं थे और घर का झग’ड़ा घर में ही निपटाना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि अगर सचिन झ’गड़े में दु’श्मन के साथ मिलकर राजनीति करेंगे तो खेल में कुछ नही बचेगा। सीएम गहलोत ने सचिन पायलट के बारे में कहा कि, बीजेपी के सहयोग से सरकार गि’राकर सरकार बनाना चाहते हैं, जनता कभी माफ नहीं करेगी, और जिस पार्टी ने आपको सब कुछ दिया उससे ग’द्दारी नहीं करनी चाहिए और कहा कि में सचिन के खि’लाफ नही हूं ये राहुल गांधी अच्छी तरह से जानते हैं। अगर सचिन पार्टी में वापस आते हैं तो में सबसे पहले उनको गले लगा कर उनका स्वागत करूंगा।

लेकिन इससे पहले ही तीन दिनों से गहलोत सचिन पायलट पर ह’मला बोल रहे थे और सचिन पर बिजेपी के साथ मिलकर सरकार गि’राने के साथ-साथ और भी आ’रोप लगाए। लेकिन सचिन पायलट ने गहलोत के खि’लाफ कोई आ’रोप नहीं लगाए। अशोक गहलोत के साथ ही उनके समर्थक भी पिछले पांच दिनों कोशिश कर रहे हैं ऐसा माहौल बनाने की जिस से सचिन पायलट को प्रदेश की राजनीति से बाहर कर दिया जाए। सचिन पायलट से पहले ही उपमुख्यमंत्री का पद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष का पद छी’न लिया गया है और तो और उनके विश्वस्त युवक कांग्रेस और सेवादल के अध्यक्षों को बदल दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.