पीएम मोदी की रेटिंग में आई भारी गिरावट, लोगों ने माना- भाजपा सरकार ने…

May 22, 2021 by No Comments

देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी साल 2014 में जब अच्छे दिनों का ख्वाब लोगों को दिखाने के लिए बड़े-बड़े दावे कर रहे थे। तो उसके बाद देखते ही देखते उनकी लोकप्रियता काफी बढ़ गई। साल 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में भी पीएम मोदी को उनकी लोकप्रियता का काफी फायदा मिला और दोबारा केंद्र की सत्ता में भाजपा ने दस्तक दी। लेकिन अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़ी एक बु’री खबर सामने आ रही है।

बताया जाता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रेटिंग में पहले के मुकाबले गिरावट आई है। बताया जाता है कि पीएम मोदी की रेटिंग में गिरावट आने का कारण भारत में फैली को’रोना महामा’री है। दरअसल भले ही भाजपा सरकार लोगों को यह संदेश दे रही हो कि वह इस महामा’री को कंट्रो’ल करने के लिए जी तोड़ कोशिश कर रहे हैं।

Coronavirus

सच यह है कि कोरोना सं’क्रमण के दौरान लोगों के सामने भाजपा सरकार की सच्चाई आ चुकी है। जिससे भाजपा को काफी नुकसान भी पहुंचा रहा है। दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता में कमी हो रही है। इस संदर्भ में अमेरिकन आर्गेनाइजेशन ने एक सर्वे किया है।

अमेरिकन ऑग्नाइजेशन मॉर्निंग कंसल्ट ने बताया है कि पीएम मोदी की लोकप्रियता में साल 2019 से लेकर अब तक 22% अंक की गिरावट आई है। ‘मॉर्निंग कंसल्ट’ का कहना है कि नरेंद्र मोदी की रेटिंग इस हफ़्ते 63 फ़ीसदी रही, जो अप्रैल की तुलना में 22 पॉइंट कम है।

सर्वे के मुताबिक़, महानगरों में कोरोना के बढ़ते प्रकोप के साथ ही मोदी की लोकप्रियता में गिरावट आई है। इस सर्वे में भी कहा गया है कि कोरोना महामा’री से निपटने में मोदी सरकार के प्रति देश के लोगों का भरोसा पहले के मुकाबले काफी कम हुआ है।

सर्वे में शामिल सिर्फ 59 फ़ीसदी लोगों ने यह माना है कि मोदी सरकार ने कोरोना महासंकट से निपटने के लिए अच्छा काम किया है। दरअसल कोरोना की पिछली लहर में ऐसे लोगों की तादाद 89 फीसदी थी।

मॉर्निंग कंसल्ट के सर्वेक्षण का नतीजा ऐसे समय आया है। जब गाँवों में एकाएक मौ’त के मामले बढ़ गए हैं। गं’गा में सैकड़ों ला’शें तै’रती मिल रही हैं। हज़ारों ला’शों को गं’गा किनारे रेत में द’फ़न करने की ख़बरें हैं। गाँवों में बड़ी संख्या में बु’खार से पी’ड़ित होने की रिपोर्ट है।

गाँवों में तो लोगों के पास कोरोना जाँच की सुविधा ही नहीं है या फिर लोग जाँच करा नहीं रहे हैं। डॉक्टर और एंबुलेंस जैसी सुविधा भी नहीं है। गं’भीर हालत होने पर म’रीज़ों को शहरों में लेकर जाँच कराने पर अधिकतर मामलों में कोरोना की रिपोर्ट आ रही है। कई मरीज तो शहरों के अस्पताल पहुँचते-पहुँचते ही द’म तोड़ दे रहे हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *