PM मोदी से मिलकर शरद पवार ने पलटी बा’ज़ी, महाराष्ट्र सरकार पर संक’ट का..

महाराष्ट्र सरकार और केंद्र सरकार में उठापटक जारी है। एक दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप के अलावा भी इस कहानी में बहुत कुछ है। इस बीच महाराष्ट्र सरकार की अहम सहयोगी एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की है।

20 मिनट चली इस मुलाक़ात में क्या चर्चा हुई ये सभी जानने के इच्छुक हैं। एनसीपी नेता से मोदी की मुलाक़ात पर बहुत सी अटकलबाजियां हो रही थीं। देश के वरिष्ठ नेताओं में शुमार किए जाने वाले पवार ने PM मोदी से क्या बात हुई इस पर कहा कि प्रधानमंत्री से लक्षद्वीप के मुद्दे पर चर्चा हुई। उन्होंने कहा,”मेरी प्रधानमंत्री के साथ कुछ मुद्दों पर चर्चा हुई, मैंने प्रधानमंत्री से महाराष्ट्र परिषद की पिछले क़रीब ढाई साल से ख़ाली सीटों को लेकर बात की।”

पवार ने कहा कि शिवसेना नेता संजय राउत के ख़िलाफ़ हुई कार्यवाई को लेकर भी बात हुई। एनसीपी नेता ने कहा कि शिवसेना सांसद के साथ अन्याय हुआ है, उनकी प्रॉपर्टी को अटैच किया गया है। उन्होंने कहा,”संजय राउत के ख़िलाफ़ कार्यवाई करने की क्या ज़रूरत थी? क्या ऐसा इसलिए किया गया कि वो सरकार के ख़िलाफ़ बोलते हैं।”

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वो UPA की ज़िम्मेदारी लेने को ख़ुद तैयार नहीं हैं। पवार ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव के लिए ममता बनर्जी ने कहा है कि एक ग़ैर भाजपा प्रत्याशी चुनने के लिए विपक्षी दलों को बात करना चाहिए। उन्होंने कहा कि वो ऐसी पार्टियों के सम्पर्क में भी हैं।उन्होंने ये भी कहा कि महाराष्ट्र सरकार स्थिर है और इस पर किसी तरह का कोई संकट नहीं है।

वहीं शिवसेना नेता संजय राउत ने अपने ख़िलाफ़ हुई कार्यवाई के बाद भाजपा पर प्रतिशोध की भावना से काम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय एजेंसियां भाजपा नेताओं के ख़िलाफ़ एक भी कार्यवाई नहीं करतीं। उन्होंने कहा कि ये कार्यवाई उन्हें झुकाने के लिए है पर वो झुकेंगे नहीं। वहीं उन्होंने भाजपा नेता पर भी बड़ा आरोप लगाया।

शिवसेना नेता संजय राउत ने भाजपा नेता किरीट सोमैया पर बड़ा आरोप लगाया है। राउत ने कहा कि सोमैया ने आईएनएस विक्रांत को बचाने के लिए पैसे जमा कराए थे और दावा किया था कि ये राजभवन पहुँचेंगे लेकिन RTI से पता चला कि पैसे राजभवन नहीं पहुँचे।

राउत ने दावा किया कि एक RTI से ये मालूम हुआ है कि राजभवन तक वो पैसे नहीं पहुँचे। उन्होंने कहा कि कश्मीर फ़ाइल से भी बड़ी है आईएनएस विक्रांत फ़ाइल।

Leave a Reply

Your email address will not be published.