नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक बयान के बाद एक बार फिर गौरक्षा और उससे जुड़ी हिंसा का मुद्दा उभर कर आ गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मथुरा में कहा कि कुछ लोगों को “ॐ” और “गाय” शब्द से परेशानी होती है. उन्होंने कहा,”इस देश का दु’र्भाग्य है कि कुछ लोगों के कान पर अगर “ॐ” और “गाय” शब्द पड़ता है तो उनके बाल खड़े हो जाते हैं.” प्रधानमंत्री यहाँ “स्वच्छता ही सेवा” प्रोग्राम-2019 का उद्घाटन करने आये था.

उन्होंने कहा कि लोगों को’ॐ’ और ‘गाय’ शब्द सुनकर लगता है कि देश 16वीं शताब्दी में चला गया, ऐसा ज्ञान.. देश ब’र्बाद करने वालों ने देश बर्बाद करने में कुछ नहीं छोड़ा है. प्रधानमंत्री ने अपने भाषण के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल की भी तारीफ़ की. मोदी के बयान पर आल इण्डिया मजलिस ए इत्तिहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदउद्दीन ओवैसी ने अपना बयान दिया है.

उन्होंने भाजपा के वरिष्ठ नेता और वाराणसी से सांसद मोदी के बयान की आलो’चना की. हैदराबाद के सांसद ने कहा कि गाय हमारे हिन्दू भाइयों के लिए पवित्र है लेकिन संविधान में बराबरी का अधिकार और जीने का अधिकार इंसानों को है, मुझे उम्मीद है कि प्रधानमंत्री को ये बात पता होगी. उल्लेखनीय है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में गौ-रक्षा के नाम पर हिंसा के कई मामले मीडिया में सुनने को मिले. इनमें से कुछ मामले अदालतों तक भी गए.

गौ-रक्षा के नाम पर होने वाली हिंसा को लेकर विपक्ष भाजपा और भाजपा नेतृत्व वाली मोदी सरकार की आ’लोचना करता रहा है. दूसरी ओर केंद्र सरकार ये दावा करती है कि सरकार मोब लिंचिंग को लेकर कठोर रवैया अपना रही है और दोषियों को सज़ा दी जायेगी. प

Leave a Reply

Your email address will not be published.