नई दिल्ली: दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने अपनी तैयारियां शुरू कर दी हैं. इस बीच एक ऐसी ख़बर आ रही है जिसके बाद आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं में ख़ुशी हो सकती है. आम आदमी पार्टी यूँ तो अपना चुनावी प्रचार अप्रत्यक्ष रूप से शुरू कर चुकी है और अपने कार्यकाल में किए गए विकास कार्यों को बार बार जनता के बीच बता रही है.अब आम आदमी पार्टी को जदयू के उपाध्यक्ष और अपनी पार्टी से नाराज़ चल रहे प्रशांत किशोर का साथ मिल गया है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार के रोज़ इस बात की जानकारी देते हुए एक ट्वीट किया है. उन्होंने इस ट्वीट में लिखा,”ये बताते हुए खुशी हो रही है कि इंडियन पॉलिटिकल एक्शन कमेटी (I-PAC) हमारे साथ आ रही है. आपका स्वागत है.” आपको बता दें कि I-PAC प्रशांत किशोर की एजेंसी है. केजरीवाल और किशोर के साथ आने के बाद कई तरह की बातें चर्चा में आ रही हैं.

Arvind Kejriwal

प्रशांत किशोर इन दिनों अपनी पार्टी जदयू से नाराज़ हैं. उन्होंने अपनी पार्टी का विरोध तब भी किया जब जदयू ने नागरिकता संशोधन विधेयक का संसद में समर्थन किया. उन्होंने कहा था कि जो पार्टी अपने संविधान के पहले पेज पर तीन बार सेक्युलर शब्द का इस्तेमाल करती है वो समझ से परे है. उल्लेखनीय है कि प्रशांत किशोर ने 2014 में नरेंद्र मोदी के लिए चुनाव प्रचार किया और नरेंद्र मोदी पूर्ण बहुमत के साथ देश के प्रधानमंत्री बने. किशोर ने 2015 में नीतीश कुमार के लिए चुनाव प्रचार किया तो नीतीश कुमार महागठबंधन में बड़े बहुमत के साथ मुख्यमंत्री बने.

2017 में पंजाब कांग्रेस के लिए प्रचार किया तो कैप्टन अमरिंदर सिंह लगभग दो तिहाई बहुमत के साथ मुख्यमंत्री बने. 2019 में आंध्र प्रदेश में जगनमोहन रेड्डी के लिए काम किया तो जबरदस्त और प्रचंड बहुमत के साथ मुख्यमंत्री बने. प्रशांत किशोर ने 2017 में उत्तर प्रदेश कांग्रेस के लिए भी प्रचार किया था लेकिन बाद में कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी से हाथ मिला लिया. जिसके बाद कांग्रेस को अपने इतिहास की सबसे करारी हार और सबसे कम सीट देखने को मिली. एक यूपी को छोड़कर किशोर ने हर जगह जिसके लिए काम किया उसकी सरकार बनी. इस समय वह पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के साथ भी काम कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.