कांग्रेस के गढ़ में तय मानी जा रही भाजपा की हार, 2022 चुनाव के लिए नहीं मिल रहा…

June 16, 2021 by No Comments

पंजाब में साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। जिसके लिए राजनीतिक दलों ने अभी से तैयारियां करनी शुरू कर दी हैं। हाल ही में पंजाब के अंदर दो धुर विरोधी राजनीतिक दलों का गठबंधन हुआ है। बहुजन समाज पार्टी और शिरोमणि अकाली दल ने कई सालों बाद एक बार फिर गठबंधन में चुनाव लड़ने का फैसला शुरू किया है।

इसी बीच खबर सामने आई है कि भाजपा ने भी पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए तैयारियां शुरू कर दी है। दरअसल पंजाब के रसूखदार लोगों को पार्टी से जोड़ने का काम शुरू हो चुका है। खबर के मुताबिक 16 जून को पंजाब के साथ नेता जिनमें कई सिख लीडर भी शामिल है, भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो चुके हैं।

इस मामले में भारतीय जनता पार्टी की पंजाब इकाई के अध्यक्ष अश्विनी शर्मा ने मंगलवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की है। इस मुलाकात में उन्होंने पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीति तैयार की है।

बताया जाता है कि वरिष्ठ शिक्षक नेता और ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट्स फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष एडवोकेट राजेंद्र सिंह कहा लोग भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए हैं।

इनके साथ ही पटियाला से एडवोकेट जगमोहन सिंह सैनी, मोहाली से एडवोकेट निर्मल सिंह, गुरदारपुर के रहने वाले और ऑल इंडिया सिख स्टूडेंट फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष कुलदीप सिंह कहलों, गुरु काशी विश्वविद्यालय के पूर्व उपकुलपति जसविंदर सिंह ढिल्लों, पटियाला से कर्नल जयबंस सिंह तथा पूर्व अकाली नेता सरदार छत्रपाल सिंह भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए।

पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। अभी तक के ज्यादातर विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी और शिरोमणि अकाली दर के बीच गठबंधन होता था और भाजपा को अकाली दल के सहयोगी दल के तौर पर चुनाव लड़ना पड़ता था। लेकिन इस बार किसान कानूनों की वजह से अकाली दल और भाजपा के बीच गठबंधन टूट गया है और भाजपा ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

आपको बता दें कि साल 2017 के पंजाब विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी और शिरोमणि अकाली दल ने गठबंधन में लड़ा था और इस गठबंधन को हार का सामना करना पड़ा था। पंजाब की 117 विधानसभा सीटों में से अकाली दल का 15 और भाजपा को सिर्फ 3 सीटों पर जीत हासिल हुई थी जबकि कांग्रेस की जीत 77 सीटों पर हुई थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *