कोरो’नावाय’रस की ल’ड़ाई में 45 दिनों से जारी लॉक डाउन को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज’रिए कहा है कि लॉ’क डा’उन सबसे ज़रूरी है कि जरूर’तमंदो तक राह’त पैकेज और कुछ नगद पहुंचाया जाए। राहुल ने सरकार के ऊपर निशा’ना सा’धते हुए कहा कि सरकार को लोगों को बताना चाहिए इस बीमा’री से निप’टने के लिए उनका प्लान क्या है। उनका कहना है कि हम सिर्फ लॉ’क डा’उन करके इस महामा’री से नहीं जीत सकते। उन्होंने कहा “मैं मानता हूं कि कोरो’ना संक्र’मण काफी बड़ी सम’स्या है। मैं मानता हूं कि यह मधुमे’ह रो’गियों और बु’जुर्गों के लिए ख’तरना’क है लेकिन इसे ह’राया जा सकता है।”

उनका कहना है कि भारत की मौजूदा हा’लत नॉर्मल नहीं है इसलिए इसके लिए नॉर्मल ह’ल नहीं निकलेगा, उन्होंने कहा सर’कार को मुख्यमं’त्रियों पर भरो’सा कर ये माम’ला राज्यों तक ले जा’ना प’ड़ेगा। ये ल’ड़ाई सिर्फ पीएमओ तक नहीं है। उन्होंने कहा 100 में से एक प्रतिशत लोग ही ऐसे है जिसको इसका ज़्यादा ख’तरा है बाकी 99 प्रतिशत लोग ऐसे है जिन्हें इससे कोई ख’तरा नहीं और ये बात लोगों को ब’ताने के लिए प्रधानमंत्री को लोगों के साम’ने आना चाहिए। राहुल ने कहा कि जो मजदूर अन्य राज्यों में फं’से है सर’कार को उन्हें उनके राज्य सही- सलाम’त पहुंचाना चाहिए। उनका कहना है कि पहले मजदूरों का टे’स्ट किया जाए उसके बाद ही उन्हें यात्रा की अनुम’ति दी जाए। लेकिन सरकार उन मजदूरों को वहीं रो’कना चाहती है जहां वो फं’से हुए है।

Workers

राहुल गांधी ने बताया कि एम्स के डायरेक्टर कह रहे हैं कि जून और जुलाई के महीने तक इस वाय’रस से संक्र’मित लोगों की संख्या बढ़ने की आशं’का है लेकिन मझे लगता है ये और भी आगे जाएगा। राहुल गांधी ने अपनी बात रखते हुए कहा कि “सरकार को बता’ना चाहिए कि आ’खिर क्या हो रहा है। केंद्र सरकार को बताना चाहिए कि आखिर लॉ’क डा’उन कब खुलेगा? लोगों को जानने का अधि’कार है कि किस परिस्थि’ति में लॉ’क डा’उन खोला जाएगा।

राहुल ने कहा “लॉ’क डा’उन के दौ’रान काफी कुछ बद’ल गया है, अभी ये महामा’री काफी खत’रनाक हो गई है।” उन्होंने सरकार से कहा कि सरकार को अब राज्य सरकार और जिला प्रशासन के साथ मिलकर कोई यो’जना बनाने की जरू’रत है और साथ ही अब लॉ’क डा’उन को भी खोलने की जरू’रत है। अगर ऐसा ही रहा तो सभी लोग अपनी नौकरियां गँवा देंगे साथ ही प्रवासी मजदूर, गरीब, छोटे कारोबारियों को आज पैसे की जरू’रत है।” प्रवासी मजदूरों की बात रखते हुए राहुल ने कहा कि सरकार को न्या’य योज’ना की मदद से लोगों को हाथ में पैसे देना शुरू करना होगा भले ही इस कार्य में 65 हजार करोड़ का ख’र्च आए।

Rahul Gandhi
वहीं राहुल ने मुख्यमंत्री और डीएम की बात रखते हुए कहा कि “हमें एक ताक’तवर प्रधानमंत्री की जगह पर ताक’तवर मुख्यमंत्री, डीएम बनाने की जरू’रत है। इससे कोरो’ना को राज्यों में ही ख’त्म किया जा सकेगा। सरकार ने जो जो’न बां’टे हैं उसमें राज्यों से बात नहीं की। इससे जो जोन रेड थे वह ग्रीन जोन में चले गए, जिससे दि’क्कत और बढ़ गई है।” आरोग्य सेतु एप पर पूछे गए सवा’ल पर राहुल ने कहा “में मा’नता हूं एप के बारे में जानकारी दी गई है लेकिन मैं चाहता हूं कि उसे ओपन सो’र्स कर ​दीजिए और उसका इंट’र्नल प्रोग्राम भी सबको खो’ल कर दिखाइए।” उनका कहना है कि राज्य को इस वाय’रस से ल’ड़ने के लिए पैसा चाहिए लेकिन केंद्र सरकार वो पैसा उन तक नहीं पहुंचा रही है। उन्होंने कहा कि अब सरकार को राज्य सरकारों के साथ मिलकर कोरोना के ख़िला’फ़ ल’ड़ाई शुरू कर देनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.