RBI ने इस बैंक पर की स’ख्ती, खाताधा’रकों को लगा बड़ा झ’टका..

June 12, 2020 by No Comments

उत्तर प्रदेश के कानपुर में स्थित पीपुल्स को-ऑपरेटिव बैंक खराब फाइनेंशियल स्थिति से जू’झ रही है। जिसके चलते अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने पीपुल्स को-ऑपरेटिव बैंक पर छह महीने के लिए कर्ज देने और जमा स्वीकार करने से रो’क दिया है। 11 जून को आरबीआई ने इस बात की जानकारी दी। आरबीआई ने कहा कि “पीपुल्स को-ऑपरेटिव सहकारी बैंक से किसी जमाकर्ता को राशि की निकासी करने की भी सुविधा फिलहाल नहीं मिलेगी।”

इस संबंध में आरबीआई की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि “10 जून, 2020 को व्यवसाय बंद होने के बाद, बैंक रिजर्व बैंक की लिखित अनुमति के बिना कोई नया कर्ज़ देने या पुराने बकाये को रिन्यु नहीं कर सकेगा। इसके अलावा बैंक कोई नया निवेश नहीं कर सकेगा और न ही नया जमा स्वीकार कर सकेगा।” वहीं रिजर्व बैंक ने सहकारी बैंकों पर संपत्ति को बेचने, उसे ट्रांसफर करने और उसका निप’टान करने से रोक दिया है।

RBI


केंद्रीय बैंक ने कहा कि “विशेष रूप से, सभी बचत बैंक या चालू खाते या जमा’कर्ता के किसी भी अन्य खाते में कुल शेष राशि को निकालने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।” आपको बता दें कि 10 जून को कारोबार बंद होने के छह महीने के बाद तक यह आदेश जारी रहेगा। रिजर्व बैंक ने यह भी साफ कर दिया है कि इस आदेश को सहकारी बैंकों के लिए बैंकिंग लाइसेंस को रद्द करने के लिए नहीं है। फाइनेंशियल स्थिति सुधा’रने तक बैंक प्रति’बं’धों के साथ बैंकिंग व्यवसाय भी जारी रखेगा।

आपको बता दें कि इससे पहले भी मई में आरबीआई ने महारा’ष्ट्र के सीकेपी को-ऑपरेटिव बैंक का भी लाइसेंस रद्द कर दिया। आरबीआई ने महाराष्ट्र के इस को-ऑपरेटिव बैंक पर वित्तीय अस्थितरता को देखते हुए फैसला लिया था। वहीं आरबीआई ने 30 अप्रैल के बाद से ही बैंक के सभी ऑपरेशन्स को भी रोक दिया था। वित्तीय अस्थिरता के आधा’र पर ही आरबीआई ने बैंक का लाइसेंस रद्द किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *