राजद नेता की एनडीए को चुनौती, ”अगर सरकार को बचा सकते हैं तो…”

June 14, 2021 by No Comments

बिहार में बीते शुक्रवार को राजस्थान स्थापक लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप यादव और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी की एक मुलाकात ने सियासी हलचल तेज कर दी है। दरअसल लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन के मौके पर तेज प्रताप यादव जीतन राम मांझी से मुलाकात करने के लिए पहुंचे थे।

इस मुलाकात के बाद तेज प्रताप यादव ने ऐसा बयान दिया कि सियासी गलियारों में हलचल मच गई है। दरअसल तेज प्रताप यादव ने कहा है कि अगर जीतन राम मांझी उनके साथ आना चाहते हैं। तो उनके लिए हमेशा राजद के दरवाजे खुले हैं। इस मामले में राजद प्रवक्ता मैं तुझे तिवारी ने कहा है कि समझने वाले समझ गए हैं जो ना समझे वो अनाड़ी है।

राजद ने एनडीए को अपनी सरकार बचाने की खुली चुनौती दे दी है। राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने चुनौती देते हुए कहा है कि एनडीए अगर अपनी सरकार को बता सकती है। तो बचा कर दिखाएं। वही इस बयान का पलटवार करते हुए जदयू प्रवक्ता अजय आलोक ने कहा कि मांझी जी पुराने राजनेता हैं।

अगर उनके पास आशीर्वाद के लिए जाता है तो वो बेशक लोगों से मुलाकात करते हैं। इसके अलावा अजय आलोक ने कहा कि इस मुलाकात के बाद लालू यादव अगर मुंगेरी लाल के हसीन सपने देख रहे हैं और उनको सपना देखने से कोई रोक नहीं सकता है।

वहीं भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर कहा कि एनडीए एकजुट है। केवल मुलाकात से किसी तरह का कयास लगाना गलत होगा। इसके अलावा सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा कि मांझी द’लितों के सर्वमान्य नेता हैं।

उन पर डोरे डालने वाले सफल नहीं होंगे। एनडीए एकजुट है। नीतीश सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी एनडीए के वरिष्ठ नेता हैं। किसी जनप्रतिनिधि की उनसे शिष्टाचार भेंट का राजनीतिक मायने नहीं निकालनी चाहिए। भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि जीतन राम मांझी बिहार में द’लितों के सर्वमान्य नेता है।

उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल का प्रशासन भी देखा है उनसे किसी को जबरदस्ती मिलबांक देने से कोई फर्क नहीं पड़ता। एनडीए एक लोकतांत्रिक गठबंधन है इसलिए राजनीतिक दलों की राय अलग-अलग बिल्कुल हो सकती है। एक दूसरे के खिलाफ सार्वजनिक बयानबाजी करने की बजाए संगठन के आंतरिक मंच पर अपनी राय रखनी जरूरी होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *