शाहनवाज हुसैन के बहाने बिहार में क्या भाजपा ने खेला ट्रंप कार्ड ? ये कदम नीतीश के लिए…

January 18, 2021 by No Comments

भारतीय जनता पार्टी के नेता शाहनवाज हुसैन को भारतीय जनता पार्टी में बिहार विधान परिषद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है। बताया जा रहा है कि बिहार के सुपौल से ताल्लुक रखने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के कद्दावर नेता शाहनवाज हुसैन को बिहार विधान परिषद के लिए उम्मीदवार बनने की घोषणा से राज्य में हैरानीजनक सियासी माहौल बन गया है।

गौरतलब है कि शाहनवाज हुसैन भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की सरकार में मंत्री रह चुके हैं। वह बिहार के भागलपुर से दो बार सांसद रह चुके हैं और एक बार किशनगंज से भी लोकसभा सांसद चुने जा चुके बिहार विधान परिषद के लिए 2 सीटों पर उपचुनाव होने वाले हैं। यह दोनों सीटें भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी और भाजपा विधान परिषद विनोद झा के इस्तीफे के बाद खाली हुई है।

 

सुशील कुमार मोदी रामविलास पासवान के नि’धन से खाली हुई सीट पर उप चुनाव में राज्यसभा सांसद बन गए हैं। जबकि विनोद नारायण झा विधान सभा का चुनाव जीत चुके हैं। 18 जनवरी तक नामांकन का आखिरी तारीख है। 19 जनवरी को नामांकन पत्रों की जांच होगी. जरूरी हुआ तो 28 जनवरी को चुनाव कराए जाएंगे।

आपको बता दें कि शाहनवाज हुसैन को एमएलसी का वीरवार बनाकर बिहार के सियासी हलके में हलचल काफी तेज हो गई है कि बिहार विधानसभा चुनाव में एक भी मु’स्लिम उम्मीदवार नहीं देने वाले भाजपा ने एक मु’स्लिम को एमएलसी उम्मीदवार किस तरह बना दिया।

आखिर भाजपा की रणनीति शाहनवाज हुसैन को लेकर क्या होने वाली है? अब तक बिहार में भाजपा कि विरोधी पार्टी भाजपा को मु’स्लिम विरो’धी बताती रही है, लेकिन शाहनवाज हुसैन को एमएलसी उम्मीदवार बना भाजपा ने अपने विरोधियों को भी है’रान किया है। माना जा रहा है कि एक सीट पर राजद अपने उम्मीदवार खड़े करेगी. हालांकि, ये दोनों सीटें बीजेपी के क’ब्जे में थीं लेकिन अब उप चुनाव में बीजेपी को एक सीट का नु’कसा’न उठाना पड़ सकता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *