NCP- कांग्रेस- शिवसेना ग’ठबं’धन ने शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत के कहे अनु’सार होटल ग्रैंट हया’त में एक साथ 162 विधायकों की उपस्थिति द’र्शाक’र ये सा’बित कर दिया कि उनके पास वाक़ई बहुम’त है। साथ ही अपने इस क़द’म से देवेंद्र फडनवीस और अजीत पवार के उस दा’वे को ख़ारि’ज भी कर दिया कि उनके पास बहुम’त उपलब्ध है। एक साथ इतने विधा’यकों को एक ही जग’ह पर लाकर इस तरह श’क्ति प्रद’र्शन का ये अपनी तरह का अनो’खा माम’ला है। इससे NCP- कांग्रेस- शिवसेना ग’ठबं’धन की मज़’बूती की बात सभी के साम’ने आ गयी।

उद्धव ठाकरे ने यहाँ सभी को स’म्बोधि’त करते हुए कहा कि “मैंने एक कैमरा मैन से पूछा कि क्या पूरी फ़ोटो आ रही है। हम इतने लोग हैं एक फ़ोटो में कैसे आ पाएँगे? हम पाँच साल के लिए नहीं पचास साल के लिए साथ आए हैं” इसके बाद उन्होंने आगे कहा कि “हमारे संविधान में लिखा है कि सत्यमेव जयते यही रहना चाहिए ऐसा न हो कि सत्ता मेव जयते”

Uddhav Thackeray

शरद पवार ने जब सभी को स’म्बोधि’त करना शुरू किया तो उन्होंने कहा कि “महाराष्ट्र के लिए हम साथ आए हैं, महाराष्ट्र में जितनी सीट जी’ती गयी हैं उनके सबसे ज़्यादा विधायक यहाँ पर हैं, बहुम’त से ज़्यादा सीटें हमारे पास हैं। यहाँ तो केवल 162 विधायक मौजू’द हैं लेकिन हमारे पास इससे भी ज़्यादा विधायक हैं, उन्होंने(भाजपा)ग़ल’त ढं’ग से सर’कार बनायी है। कर्नाटक, गोवा, मणिपुर में जहाँ उन्हें बहुम’त नहीं मिला था उन्होंने वहाँ सर’कार बनायी है, यहाँ भी उन्होंने वही करना चाहा लेकिन अब महाराष्ट्र से बद’लाव की शुरुआत होगी।”

शरद पवार ने आगे कहा कि “अजीत पवार को नि’का’लने का नि’र्णय ले लिया है और अभी वो पार्टी की ओर से कोई नि’र्णय नहीं ले सकते। हमने कई क़ानूनी सला’हका’रों से बात की है और उन्होंने भी हमें बताया कि अब अजीत पार्टी की ओर से कोई नि’र्णय नहीं ले सकते। अब जो भी नि’र्णय लिया जाएगा वो तीनों पार्टियों की तरफ़ से लिया जाएगा और हम लो’कतां’त्रिक तरी’क़े से चलेंगे। गोवा, कर्नाटक या मणिपुर नहीं है ये महाराष्ट्र है और यहाँ बातें अल’ग तर’ह से होंगी।”

Sharad Pavar

शरद पवार इस तरह भाजपा को चुनौ’ती देते नज़र आए। इस मीटिंग की समा’प्ति में सभी को शप’थ दिलवायी गयी। इस श’पथ में सभी बड़े ने’ताओं का नाम लेने के बाद विधायकों से श’पथ लेने के लिए कहा गया जिसमें विधायकों ने कहा कि “अपनी पार्टी के प्रति निष्ठावान रहूँगा, अपना उत्तरदायित्व नि’भाऊँगा। किसी तरह की कोई ब’दनि’यति नहीं रखूँगा और भाजपा के साथ कभी भी नहीं जाऊँगा। बाद में बाबा साहेब अम्बेडकर और छत्रपति शिवाजी महाराज का नाम लेकर मीटिंग स्थ’गित की गयी। NCP-कांग्रेस- शिवसेना के इस श’क्ति प्रद’र्शन के बाद कल सुप्रीम को’र्ट के फ़ै’सले का इंतज़ा’र सभी को है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.