भाजपा के खिलाफ बड़ी तैयारी में शरद पवार! प्रशांत किशोर से मुलाकात के बाद…

June 14, 2021 by No Comments

बीते दिनों महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के साथ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद सियासी गलियारों में काफी हलचल मची रही। दरअसल भारतीय जनता पार्टी और शिवसेना ने एक दूसरे से रास्ते अलग करने के बाद शायद यह पहली मुलाकात एक साथ की है।

इस मुलाकात पर एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि राज्य में सत्तारूढ़ महाविकास आघाडी सरकार अपना कार्यकाल जरूर पूरा करेगी। अब खबर सामने आ रही है कि एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से मुलाकात की है। इस मुलाकात के बाद एक बार फिर से महाराष्ट्र में सियासी चर्चाएं तेज हो चुकी हैं।

कहा जा रहा है कि साल 2024 के लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ एक राष्ट्रीय गठबंधन की कोशिश की जा रही है। हालांकि प्रशांत किशोर ने इन बातों का खंडन कर दिया है। दरअसल हाल ही में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में प्रशांत किशोर ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और तमिलनाडु में डीएमके के लिए रणनीति बनाने का काम किया था।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, किशोर, पवार के दक्षिण मुंबई स्थित आवास ‘सिल्वर ओक’ सुबह करीब 11 बजे पहुंचे थे। इसके बाद वे दोपहर 2 बजे वहां से निकले। इस दौरान बारामती से सांसद सुप्रिया सुले भी मौजूद रहीं। एनसीपी के राज्य प्रमुख जयंत पाटील भी बैठक में कुछ देर के लिए शामिल हुए थे।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार एनसीपी के अंदरूनी सूत्रों ने जानकारी दी कि बैठक में बीजेपी के विकल्प की संभावना पर भी चर्चा के मुद्दों में शामिल थी। महाराष्ट्र की राजनीति के वरिष्ठ नेता माने जाते शरद पवार ने भारतीय जनता पार्टी को हराने के लिए विपक्षी दलों के साथ आने की बात कही है।

रिपोर्ट के मुताबिक एक वरिष्ठ एनसीपी नेता ने बताया है कि शरद पवार भाजपा के खिलाफ सभी विपक्षी दलों को साथ लाने के लिए काम कर रहे हैं। इस विषय पर चर्चा होना स्वभाविक है। पवार ने हाल ही में कहा था कि महाविकास अघाड़ी की सरकार ना केवल पांच साल का कार्यकाल पूरा करेगी, बल्कि लोकसभा और राज्य के विधानसभा चुनाव में भी अच्छा प्रदर्शन करेगी।

बंगाल चुनाव के बाद किशोर ने कहा था कि वे अब चुनावी रणनीतिकार के रूप में काम नहीं करेंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, यह कयास लगाए जाने लगे थे कि वे विपक्षी दलों का राष्ट्रीय गठबंधन बनाने के लिए ममता बनर्जी के साथ काम कर रहे हैं। हालांकि, इन दावों की पुष्टि नहीं हो सकी थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *