मुम्बई: पिछले कुछ समय में ED ने कई राजनेताओं पर कार्यवाई की है। इसमें अधिकतर राजनेता विपक्षी पार्टियों के हैं। यही वजह है कि विपक्ष आ’रोप लगा रहा है कि ED भाजपा नेतृत्व वाली सरकार के इशारे पर काम कर रही है। परंतु ED अब बैकफ़ुट पर नज़र आ रही है।

ED ने एक मामले में शरद पवार को आ’रोपी बनाया है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने इस मामले में स्टैंड लेते हुए फ़ैसला किया है कि वो ख़ुद ही ED के दफ़्तर पहुँच जाएँगे। इसके बाद महाराष्ट्र में एनसीपी कार्यकर्ता सक्रिय हो गए हैं। मुम्बई समेत राज्य के विभिन्न इलाक़ों में एनसीपी कार्यकर्ता प्रद’र्शन कर सकते हैं। इसको देखते हुए ED बैकफ़ुट पर नज़र आ रही है।

ED के सूत्र बताते हैं कि वो अभी पूछताछ करने को तैयार नहीं है जबकि पवार आज उसके आफिस पहुंचने वाले हैं। अब इस मामले में शिवसेना का बयान आया है। शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने शरद पवार का समर्थ’न किया ।राउत ने कहा कि पवार एक बड़े नेता हैं और ED को उनके ख़ि’लाफ़ कार्यवाई करने से पहले सरकार से बात करनी चाहिए थी।

पवार के समर्थन में राउत कहते हैं कि एनसीपी कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में हैं और उनकी नारा’ज़गी समझी जा सकती है। उल्लेखनीय है कि जब मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे पर ED ने कार्यवाई की थी तब भी शिवसेना ने भाजपा नेतृत्व वाली सरकार का वि’रोध किया था। आपको बता दें कि महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा गठबंधन में हैं। राज्य में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है। ऐसे में दोनों दलों के बीच मत’भेद भारी पड़ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.