उमर गौतम को जबरन धर्मांतरण के आरोप में जब से एटीएस ने गिरफ्तार किया है उस वक्त से ऐसे ऐसे मामले सामने आ रहे हैं जिस पर यकीन करना मुश्किल हो जाता है इससे पहले एक निजी चैनल पर एक महिला ने आरोप लगाया था कि वह पार्क में बैठी थी उस वक्त एक आदमी उसके पास आया और उसको जबरदस्ती धर्मांतरण करने की कोशिश करने लगा यह मामला कहां तक सही है वह महिला ही बता सकती है लेकिन यकीन करना मुश्किल है।

ऐसे ही एक से एक व्यक्ति ने अपनी मुस्लिम पत्नी और उसके रिश्तेदारों पर आरोप लगाया है कि वह वह लोग उसका और उसके बेटे को जबरन इस्लाम धर्म में घर धर्मांतरित करने की कोशिश कर रहे हैं उसमें उस व्यक्ति ने अपनी याचिका में इसे रोकने के निर्देश देने की मांग की है मामला चंडीगढ़ का है जहां एक 36 वर्षीय सिख व्यक्ति ने अपनी मुस्लिम पत्नी और उसके रिश्तेदार के खिलाफ याचिका दायर कर जबरन धर्मांतरण करने का आरोप लगाया है।

सिविल जज रश्मीत कौर की अदालत ने बचाव पक्ष को नोटिस जारी कर 20 जुलाई तक इस पर जवाब मांगा है चंडीगढ़ में रहने वाले इस शख्स ने कहा क्यों धर्म और जन्म से सीख है जब किसकी पत्नी और ससुराल वाले जन्म से मुस्लिम है उस शख्स ने कहा वह धर्म नहीं बदलना चाहता है लेकिन उसकी पत्नी धर्म बदलने के लिए उस पर दबाव बना रही है इसलिए मजबूर होकर वह कोर्ट का सहारा ले रहा है ।

उस व्यक्ति के वकील दीक्षित अरोड़ा ने याचिका में बताया कि 2008 में चंडीगढ़ में एक कार्यालय में काम करते हुए अपनी होने वाली पत्नी से मिले जहां दोनों में दोस्ती हो गई और बाद में दोनों की सहमति से अमृतसर के गुरुद्वारा साहिब में उनका विवाह संपन्न हुआ उनका कहना था कि उन्हें बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि शादी के बाद उन्हें सिख धर्म छोड़ने के लिए मजबूर किया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.