आखिरकार सुप्रीम कोर्ट ने वसीम रिज़वी की मांग को अस्वीकार दिया है और उस पर 50 हज़ार का जुर्माना लगाया है जिसे वसीम रिज़वी को भरना पड़ेगा । कोर्ट ने फैसले में कहा कि उनकी मांग नाजायज़ है और उनको इस गलती के लिए 50 हज़ार का जुर्माना भरना पड़ेगा। वसीम रिजवी द्वारा कु’रान से 26 आयतें हटाने की मांग का मामला लगातार बढ़ता जा रहा है. इस मामले में बिहार सरकार में मंत्री शाहनवाज हुसैन की कुछ और ही राय है. मंत्री शाहनवाज हुसैन का कहना है कि बीजेपी वसीम रिजवी की इस बात से बिल्कुल भी सहमत नहीं हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी कु’रान शरीफ समेत सभी धर्मिक और पवित्र ग्रंथों का सम्मान करती है.

पार्टी वसीम रिजवी के कुरान श’रीफ से किसी भी आयत को हटाए जाने के विचार से बिल्कुल भी सहमत नहीं है. शाहनवाज हुसैन ने कहा कि वसीम रिजव की इस बेहूदा मांग की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है. उन्होंने कहा कि बीजेपी किसी भी धा’र्मिक ग्रंथ से इस तरह की छेड़छाड़ के बिल्कुल खिलाफ है. बतादें कि वसीम रिजवी की कुरान से 26 आ’यतें हटवाने की मांग तूल पकड़ती जा रही है.

वसीम रिजवी ने जब से ये याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की है तब से वह पूरे मु’स्लिम समुदाय के निशाने पर हैं. लोगों में उन्हें लेकर बहुत ही गुस्सा है. यहां तक कि वसीम रिजवी का सि’र काकर लाने वाले को 11 लाख रुपये का इनाम देने का ऐलान किया गया है. मुरादाबाद में राहत मोलाई कोमी एकता संगठन के एक कार्यक्रम में भी वसीम रिजवी का सि’र काने पर इनाम की घोषणा की गई है. बार के पूर्व अध्यक्ष अमीरुल हसन ने रिजवी का सिर काककर लाने वाले को 11 लाख रुपए देने की घोषणा की है.

रिजवी के खिलाफ मिल रही शिकायतों के बाद अब सरकार के राष्ट्रीय अल्प संख्यक आयोग ने रिजवी के खिलाफ नोटिस जारी किया है. रिजवी के जवाब के बाद आगे की कानूनी कार्यवाही शुरू की जाएगी. उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने कु’रान शरीफ की 26 आयतों को हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है.

उनका दावा है कि इन आयतों से आकवाद फैलता है और इन्हें पढ़ाकर आकवादी तैयार किए जा रहे हैं. यह भी दावा है कि ये आयतें बाद में जोड़ी गई हैं. रिजवी की इस मांग के बाद उनका विरोध शुरू हो चुका है. वसीम रिजवी के खिलाफ आई शिकायतों का संज्ञान लेते हुए राष्ट्रीय अल्पसं’ख्यक आयोग ने उनको नोटिस जारी किया है.