अफगानिस्तान में ता’लि’बान की वापसी हुए हफ्ता से ज़्यादा गुजर गए लेकिन ता’लिबा’न के प्रमुख नेता मुल्ला हब’तुल्ला’ह अभी तक मीडिया में नजर नहीं आए जिसके लेकर मीडिया में ऐसी खबर चलाई जा रही है की ऐसा मालूम होता है मुल्ला हबतुल्लाह भी जिंदा नहीं रहे आपको बता दें मुल्ला उमर के म’रने की खबर को ता’लिबा’न ने दो साल तक छुपाए रखा था अमेरिकी इंटेलिजेंस पूरी तरह फेल रही उनको ये भी नही पता चला कि मु’ल्ला उ’मर जिंदा है या नही ।

अफगानिस्तान में ता’लिबा’न के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने मीडिया रिपोर्टों का खंडन किया है कि ता’लि’बान के अमीर अल-मुमिनिन, हबतुल्ला अखुनजादा जीवित नहीं हैं, यह कहते हुए कि वह जीवित है। हब’तुल्ला हमारा अमीर अल-मुमिनिन है उनके प्रस्ताव के तहत अफ़ग़ानिस्तान में सरकार बनेगी।

उन्होंने कहा अगर आप शांति चाहते हैं, तो शरिया कानून में दी गई सजा से ही आ सकती है। एक इंटरव्यू में ता’लि’बान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि शेख-उल-हदीस हबतुल्ला जिंदा है। उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान की आने वाली सरकार में हबतुल्ला को भी शामिल किया जाएगा। उन्होंने कहा कि हबतुल्लाह हमारे अमीर-उल-मोमिनीन है और सरकार उनके मशवरा से ही गठित होगी वे इस समय बहुत व्यस्त हैं।

पंजशीर घाटी में प्रतिरोध के बारे में ता’लि’बान के प्रवक्ता ने कहा, “हमें 80% यकीन है कि इस मुद्दे को बातचीत के माध्यम से हल किया जाएगा और हमें शांति से आगे बढ़ना होगा।” प्रवक्ता ने कहा कि इस्लामी शासन के लिए शरिया कानून लागू किया जाएगा, शांति चाहिए तो शरिया कानून में दी गई सजा से ही मिल सकती है।उन्होंने कहा कि शरिया की सजा दी जाएगी लेकिन इस बार जिसको भी सजा दी जाएगी पहले उसकी जांच की जाएगी ।

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.