तसनीम मीर का ऐसा कारनामा जो पीवी सिंधु और सायना नहवाल नहीं कर पाईं, दुनिया की पहली…

January 19, 2022 by No Comments

तसनीम मीर नंबर एक रैंकिंग में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला शटलर बन गई हैं तसनीम मीर ये कारनामा सिर्फ 16 की उम्र में कर दिया है तसनीम मीर ने तीन पायदान की छलांग लगाकर महिला एकल जूनियर विश्व रैंकिंग में 10,810 अंकों के साथ शीर्ष पर पहुंच गई हैं इस सफलता के साथ, तसनीम कुछ ऐसा करने में कामयाब रहीं जो अब तक किसी भी भारतीय महिला शटलर ने नहीं किया है।

इस सूची में दो बार की ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधु और लंदन की कांस्य पदक विजेता साइना नहवाल भी शामिल हैं बीडब्ल्यूएफ जूनियर रैंकिंग 2011 में शुरू हुई थी उस समय साइना जूनियर होने के कारण इसमें शामिल नहीं हो पाई थीं, जबकि सिंधु अपने अंडर-19 दिनों के दौरान जूनियर्स में दुनिया की नंबर 2 थीं ब्वाय एकल में तीन शटलर लक्ष्य सेन, सिरिल वर्मा और आदित्य जोशी विश्व के नंबर एक खिलाड़ी बन चुके हैं।

तसनीम ने छह साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू कर दिया था। उनके पिता इरफान ने कहा कि तसनीम ने छह साल की उम्र में बैडमिंटन खेलना शुरू किया। एक समय था जब वह खेलना बंद करने पर विचार कर रही थीं, लेकिन प्रायोजकों के आने के बाद उन्होंने अपना इरादा तर्क कर दिया उन्होंने कहा, ‘मेरा लंबे समय का लक्ष्य सीनियर सर्किट में भी अपनी रैंकिंग सुधारना है ताकि मैं ओलंपिक में हिस्सा ले सकूं और भारत का प्रतिनिधित्व कर सकूं।

इसलिये मेरा मुख्य लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा सीनियर टूर्नामेंट में खेलकर उनमें अच्छा प्रदर्शन करना है ताकि मेरी रैंकिंग सुधर सके गुजरात की 16 साल की तस्नीम को पिछले साल शानदार प्रदर्शन का फायदा मिला, जिसमें उन्होंने तीन जूनियर इंटरनेशनल टूर्नामेंट जीते थे, जिससे वह तीन पायदान के फायदे से जूनियर वर्ल्ड रैंकिंग में टॉप स्थान हासिल करने में सफल रहीं। इससे पहले यह उपलब्धि किसी भी भारतीय जूनियर महिला खिलाड़ी ने हासिल नहीं की थी जिसमें दो बार की ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू और लंदन ओलंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल भी ऐसा नहीं कर सकीं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.