टीम में नहीं मिली जगह तो हज के लिए रवाना हुआ धुरंधर, अम्मी को लेकर मोहसिन खान….

July 3, 2022 by No Comments

हमारे देश में क्रिकेट के चाहने वाले करोड़ों में हैं. क्रिकेट के हर सितारे को हमारे यहाँ सर आँखों पर रखा जाता है. हम बात करने जा रहे हैं आज के दौर के एक सितारे की. उत्तर प्रदेश के अमरोहा में भारत के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी का जन्म 3 दिसंबर 1990 को हुआ था. शमी को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था. वह बचपन से तेज गेंदबाजी करते थे. साल 2005 में जब मोहम्मद शमी 15 साल के थे तब मोहम्मद शमी के पिता उनकी गेंदबाजी से प्रभावित होकर उन्हें मुरादाबाद के क्रिकेट कोच बदरुद्दीन सिद्दीकी के पास लेकर गए.

शमी के कोच भी उनकी तेज तर्रार गेंदों को देखकर हैरान रह गए थे. इसके बाद उन्होंने शमी को क्रिकेट की बारीकियां सिखाई. उत्तर प्रदेश में जन्मे शमी को अपने प्रदेश के अंडर-19 में चयन नहीं हो सका. इसके बाद उनके कोच ने उन्हें कोलकता जाने की सलाह दी.

कोच की सलाह पर वह कोलकता गए और वहां डलहौजी क्रिकेट कल्ब के लिए खेलना शुरू कर दिया. इसके बाद बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के पूर्व सहायत सचिव देवव्रत ने उन्हें गेंदबाज करते हुए देखा और उनसे बहुत प्रभावित हो गए. जिसके बाद उन्होंने शमी को मोहन बागान कल्ब भेज दिया.

मोहम्मद शमी के करियर में सौरव गांगुली का योगदान काफी अहम रहा. मोहन बागान क्लब में दादा ने ही उन्हें गेंदबाजी करते देखा और फिर शमी ने बंगाल की रणजी टीम में जगह बनाई. अपने पहले ही मैच में शमी ने असम के खिलाफ तीन विकेट झटके. इसके बाद सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में उन्होंने असम के खिलाफ 4 ओवर गेंदबाजी करते हुए 4 विकेट हासिल किए.

Leave a Comment

Your email address will not be published.