मुंबई: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडनवीस ने आज अपना इस्तीफ़ा राज्यपाल को सौंप दिया. राज्यपाल ने उनका इस्तीफ़ा एक्सेप्ट कर लिया है. इस्तीफ़ा देने के बाद देवेन्द्र फडनवीस ने पत्रकार वार्ता कर कहा कि बातचीत के नाकामयाब होने के लिए शिवसेना ज़िम्मेदार है। उन्होंने कहा कि गठबंधन अभी भी टूटा नहीं है। उन्होंने कहा कि मैंने शिवसेना के नेताओं से संपर्क करने की कोशिश की लेकिन मेरी कॉल रिसीव नहीं की गई.

इसके बाद शिवसेना के अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने भी प्रेस वार्ता की. उन्होंने कहा कि मैंने बालासाहब से वादा किया था कि एक दिन शिवसेना का मुख्यमंत्री होगा और मैं वो वादा निभाऊँगा… मुझे अमित शाह या देवेंद्र फडणवीस की ज़रूरत नहीं है. उन्होंने कहा,”हमने बातचीत के दरवाज़े कभी बंद नहीं किए थे..उन्होंने (भाजपा) हमसे झूठ बोला इसलिए हमने उनसे बात नहीं की..हमने अभी तक एनसीपी से बातचीत शुरू नहीं की है.

उन्होंने कहा कि देवेन्द्र फडनवीस ने मुझ पर झूठ बोलने का आरोप लगाया लेकिन मैं जो भी कहता हूँ सोच-समझकर कहता हूँ. उन्होंने आगे कहा,”ये बड़े दुःख की बात है कि गँगा की सफ़ाई के साथ-साथ इन लोगों का दिमाग़ प्रदूषित हो गया है..मुझे दुःख होता है कि हमने ग़लत लोगों के साथ गठबंधन किया है.” केन्द्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने इस बारे में बात करते हुए कहा कि अभी भी वक़्त है.. मुझे लगता है कि लोगों की भलाई के लिए..भाजपा-शिवसेना को साथ आकर सरकार बनानी चाहिए.. और रही बात 50-50 फ़ॉर्मूला की, तो इस तरह का कोई प्रॉमिस अमित शाह जी ने नहीं किया था.”

Leave a Reply

Your email address will not be published.