यूक्रेन के ख़िलाफ़ रूस को रोकने की कोशिश में फ्रांस के राष्ट्रपति ने पुतिन से की बात, मिला ये जवाब..

रूस और यूक्रेन में चल रहे यु’द्ध के बीच रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुअल मेक्रों से फ़ोन पर बात की. इस बातचीत में पुतिन ने कहा कि रूस यूक्रेन के ख़िलाफ़ अपनी ल’ड़ाई जारी रखेगा. उन्होंने ये भी कहा कि कीव द्वारा वार्ता में देरी के किसी भी प्रयास के परिणामस्वरूप मॉस्को अपनी मांगों की सूची में और मांगों को जोड़ देगा.

वहीं दूसरी ओर यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने कहा कि वह यु’द्ध के बाद यूक्रेन के पुनर्निर्माण के लिए काम करेंगे. हमारे पास अपनी स्वतंत्रता के अलावा खोने के लिए कुछ भी नहीं है. यूक्रेन को अपने अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों से दैनिक ह’थियारों की आपूर्ति प्राप्त हो रही है.जेलेंस्की ने एक वीडियो में कहा, “हम हर घर, हर गली, हर शहर को बहाल करेंगे और हम रूस से कहते हैं: पुनर्मूल्यांकन और योगदान के बारे में सीखें. आपने हमारे राज्य के खिलाफ, हर यूक्रेनी के खिलाफ जो कुछ भी किया, उसकी भरपाई आप करेंगे.”

रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने पश्चिमी देशों पर गंभीर आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि पश्चिमी राजनेताओं ने परमा’णु यु’द्ध पर विचार किया है. लावरोव ने रूसी और विदेशी मीडिया से कहा, “मैं यह बताना चाहूंगा कि परमाणु यु’द्ध का विचार पश्चिमी राजनेताओं के दिमाग में लगातार घूम रहा है, न कि रूसियों के.”

रूसी सेना ने दक्षिणी यूक्रेन में खेरसॉन के काला सागर बंदरगाह पर कब्जा कर लिया है, जो मॉस्को के लिए कई झटके के बाद कब्जे में आने वाला पहला बड़ा शहर है. वे रणनीतिक बंदरगाह शहर मारियुपोल को भी घेरने में जुटे हुए हैं, जहां पानी और बिजली की सप्लाई पूरी तरह ठप है. संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेंसी का कहना है कि रूस के आक्रमण के बाद से दस लाख से अधिक लोग यूक्रेन छोड़कर निकल गए हैं और यह संख्या तेजी से बढ़ रही है.

रूस के रक्षा मंत्रालय ने नागरिकों के लिए कीव, खार्किव और मारियुपोल सहित सबसे अधिक प्रभावित यूक्रेनी शहरों को छोड़ने के लिए “मानवीय गलियारों” की भी घोषणा की. संयुक्त राष्ट्र ने कथित यु’द्ध अप’राधों की जांच शुरू कर दी है, क्योंकि रूसी सेना ने यूक्रेन के शहरों पर गोले और मिसाइलों से बमबारी की, जिससे नागरिकों को बेसमेंटों में शरण लेने के लिए मजबूर होना पड़ा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.