लखनऊ: उत्तर प्रदेश में चुनाव ज़ोर-शोर से चल रहा है. मुख्य लड़ाई भाजपा और समाजवादी पार्टी के बीच है. ऐसा माना जा रहा है कि इस बार बसपा और कांग्रेस जैसी पार्टियाँ मुक़ाबले से पहले ही बाहर दिख रही हैं. हालाँकि ये भी सच है कि राजनीति में कुछ भी पक्के से नहीं कहा जा सकता. इस बीच अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी के लिए कांग्रेस ने बड़ा एलान किया है.

कांग्रेस ने असल में उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी को दो सीटों पर सार्थान दिय है. ये सीटें वो हैं जहाँ से अखिलेश यादव और शिवपाल यादव चुनाव लड़ रहे हैं. अखिलेश करहल सीट से लड़ रहे हैं जबकि शिवपाल जसवंतनगर सीट से उम्मीदवार हैं. इस बारे में जब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पार्टी के स्टार कैम्पेनर सचिन पायलट से पूछा गया तो उन्होंने इसका कारण बताया.

पायलट ने कहा कि सोनिया गांधी ने राज्य की राजबरेली सीट से समाजवादी पार्टी ने कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था. ऐसे में अब “राजनीतिक शिष्टाचार” के रूप में अखिलेश यादव के खिलाफ करहल और शिवपाल यादव के खिलाफ जयवंतनगर से कोई उम्मीदवार नहीं उतारा गया है. कांग्रेस नेता ने कहा, “आगामी विधानसभा चुनाव के दौरान उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में परिवर्तन निश्चित होगा.”

उन्होंने कहा कि पांच साल सत्ता में रहने के बाद भी बीजेपी लोगों को धमकाकर वोट लेना चाहती है. हालांकि राज्य में कांग्रेस अपने घोषणापत्र और उम्मीदवारों के दम पर चुनाव लड़ रही है. प्रियंका गांधी ने पहले ही महिलाओं पर ध्यान केंद्रित किया है. आपको बता दें कि समाजवादी पार्टी ने 2019 लोकसभा चुनाव में राहुल गांधी के ख़िलाफ़ अमेठी में प्रत्याशी नहीं उतारा था.