देशभर में कोरोना के संक्रमण रोकने के लिए वैक्सीनेशन का दौर तेज़ी से चल रहा है देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे फेज के अभियान का आगाज सोमवार से हो चुका है. प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने भी वैक्सीन का डोज़ लिए है दूसरे चरण में 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को और गंभीर बीमारियों से पीड़ित 45-59 वर्ष के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी, वैक्सीनेशन का दौर तेज़ी चल रहा है इसी बिच एक फ्रॉड सामने आया है.

वैक्सीनेशन की दूसरे ड्राइव के शुरू होने से पहले शनिवार से ही कोविन की फेक वेबसाइट का मैसेज सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होने लगा है . कई लोगों ने तो इस पर अपना प्री रजिस्ट्रेशन तक करा लिया है. अब उन्हें इस बात कि परेशानी और डर सताने लगा है कि कहीं उनके साथ कोई फ्रॉड ना हो जाए. अब इस वेबसाइट से खुद के रजिस्ट्रेशन को हटाने का विकल्प तलाश रहे हैं, लेकिन ऐसा कोई ऑप्शन वहां नहीं दिख रहा है. इस तरह की हो रही धोखाधड़ी से लोगों को सावधान रहने के लिए पीआईबी फैक्ट चेक टीम नें दिशा-निर्देश जारी किए हैं.


जानकारी के मुताबिक इस वेबसाइट पर एक लिंक शेयर किया गया है, जिसके जरिए लोगों से वैक्सीन लगवाने के लिए कहा जा रहा है. लिंक पर ते ही यह हूबहू मिलते हुए पेज पर ले जाता है. यहां एक फॉर्म खुलता है, जिसमें आपको अपने बारे में पूरी जानकारी देनी होती है. यह जानकारी उसी तरह की है, जैसे कोविन ऐप में बताई जा रही है. यानी आपको फोन नंबर, आईडी नंबर आदि देना होता है. जिसके बाद आपको फोन पर एक ओटीपी भी मिलेगा. जिसे भरकर आप लॉगिन कर सकते हैं. इतना ही नहीं इस वेबसाइट पर कुछ अस्पतालों के नाम भी हैं.

पीआईबी की टीम ने इसे फेक बताया है. पीआईबी ने ट्वीट किया है कि, एक वेबसाइट ‘http://selfregistration.preprod.co-vin.in’ आधिकारिक कोविन वेबसाइट की तरह लग रही है और उपयोगकर्ताओं से मोबाइल नंबर का उपयोग करके COVID 19 टीकाकरण के लिए पंजीकरण करने के लिए कह रही है. यह एक फर्जी वेबसाइट है. कोविड टीकाकरण की किसी भी जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट या @MoHFW_INDIA के ट्विटर पर जाएं.

स्वास्थ्य मंत्रालय ने जानकारी दी है कि वैक्सीन रजिस्ट्रेशन के लिए कोई भी ऐप्लीकेशन नहीं है. वहीं, प्ले स्टोर पर जो कोविन नाम की ऐप्लीकेशन है, वो ऐप्लीकेशन आम लोगों के लिए नहीं हैं और इसका इस्तेमाल सिर्फ ऑफिशयल ही कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.