मुंबई: महाराष्ट्र में हुए लोकल चुनाव में एक बार फिर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, शिवसेना और कांग्रेस गठबंधन ने भाजपा को शिकस्त दी है. महाराष्ट्र में 106 सेमी-अर्बन स्थानीय निकायों के चुनाव परिणाम आज बुधवार को घोषित हुए. कुल मिलाकर रुझानों से संकेत मिल रहा है कि शरद पवार की राकांपा 25 क्षेत्रों में पंचायत बनाएगी.

वहीं भाजपा को 24, कांग्रेस को 18 और शिवसेना को 14 जगह जीत मिलती दिख रही है. एनसीपी (राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी), कांग्रेस और शिवसेना महाराष्ट्र के सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी का हिस्सा हैं.गठबंधन के लिहाज़ से देखें तो 57 सीटें गठबंधन के खाते में आयी हैं जबकि भाजपा को महज़ 24 सीटें ही मिली हैं.

ये पार्टियां कुछ क्षेत्रों में संयुक्त रूप से और दूसरों में स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ रही हैं, लेकिन संयुक्त रूप से वे भाजपा को आधे से अधिक अंतर से हराती नजर आ रही हैं. भाजपा 1,802 सीटों में से 379 सीटें जीतकर सबसे अधिक सीट जीतने वाली पार्टी बनकर उभरी है. अब तक 1,683 सीटों के नतीजे घोषित हो चुके हैं.

एनसीपी ने 359 सीटें जीती हैं, शिवसेना ने 297 और कांग्रेस ने 281 सीटें जीती हैं, जिसका अर्थ है कि महा विकास अघाड़ी ने फिर से भाजपा को भारी अंतर से हराया है. इन नतीजों को जहां कुछ लोग भाजपा के लिए झटका बता रहे हैं वहीं भाजपा की राज्य इकाई के प्रमुख चंद्रकांत पाटिल ने दावा किया कि पार्टी राज्य की सबसे बड़ी राजनीतिक ताकत है.

उन्होंने कहा कि लगभग 26 महीनों तक सत्ता से बाहर रहने के बावजूद, भाजपा सफल रही है और इससे पता चलता है कि हम बिना किसी सरकारी समर्थन के अच्छे परिणाम दे सकते हैं.नगर पंचायत के नतीजों की बात करें तो भारतीय जनता पार्टी (BJP) 1,649 सीटों में से महज़ 384 सीटों पर जीत दर्ज करने में कामयाब हुई. वहीं एनसीपी को 344, शिवसेना को 284 और कांग्रेस को 316 सीटों पर जीत मिली. 206 निर्दलीय भी चुनाव जीते. इस तरह से देखें तो महाराष्ट्र विकास अघाड़ी को 944 सीटों पर जीत दर्ज की.