पश्चिम बंगाल चुनाव में राजद-जदयू का अनोखा कमाल, मांझी ने भी इन सीटों पर…

April 4, 2021 by No Comments

कुछ महीने पहले तक बिहार के राजनीतिक दलों द्वारा पश्चिम बंगाल में एंट्री मा’रने की बड़ी-बड़ी बातें की जा रही थी। पश्चिम बंगाल में पहले चरण के चुनाव के लिए हुए मतदान के बाद दूसरे चरण की वोटिंग भी हो चुकी है। लेकिन बिहार के नेता कहीं पर भी दिखाई नहीं दिए।

गौरतलब है कि बंगाल चुनाव की तारीखों की घोषणा से पहले ही बिहार में सक्रिय राजनीतिक दलों के बड़े-बड़े दावे कर रहे थे। अपने द’म पर वि’रोधियों को प्रस्तुत करने की बात करने वाले नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव आखिर पश्चिम बंगाल चुनाव प्रचार में कहीं नजर क्यों नहीं आए।

बंगाल में चुनाव लड़ने के लिए बढ़-चढ़कर ऐलान करने वाले बिहार के राजनीतिक दलों में जदयू, राजद, भाकपा माले और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) प्रमुख हैं। जदयू ने बंगाल की 50 से ज्यादा सीटों पर ल’डऩे का संकेत कर रखा है। हम प्रमुख जीतनराम मांझी ने भी 26 सीटों पर ताल ठो’कने का दावा किया था।

राजद को भी ममता बनर्जी के साथ संबंधों के आधार पर तृणमूल से छह सीटें मिलने की उम्मीद थीं। तेजस्वी यादव ने प्रयास भी किया था। अपने दो वरिष्ठ नेताओं को दो-दो बार कोलकाता भेजा। खुद भी गए और ममता बनर्जी से बात बनाने की कोशिश की।

जब एक भी नहीं मिली तो बिना शर्त समर्थन कर दिया। भाकपा माले ने भी कांग्रेस एवं वामदलों के मोर्चा के साथ गठबंधन की पूरी कोशिश की। असफल होने के बाद उसने अपने दम पर 12 सीटों पर प्रत्याशी उतार रखा है। माले के नेता सक्रिय भी हैैं।

बताया जाता है कि हिंदुस्तान आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी की पार्टी को पश्चिम बंगाल में उम्मीदवार ही नहीं मिले। हालांकि उन्होंने यह दावा किया था कि वह 100 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगे।

पर अब पार्टी ने सिर्फ 3 सीटों पर ही अपने उम्मीदवार उतारे हैं। इस मामले में हम के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने दावा किया है कि मांझी के बंगाल जाने का कार्यक्रम बनाया जा रहा है। एक दो दिनों में रवाना हो सकते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *