योगी सरकार ने किया बड़ा फेर बदल , अब आज़म खान को लेकर ..

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान सपा के वरिष्ठ नेता आजम खान का मुद्दा काफी गरमाया हुआ था। समाजवादी पार्टी ने आजम को रामपुर से विधानसभा से टिकट भी दिया था और वह जीत भी गए थे लेकिन अभी वह जे’ल में ही हैं। लेकिन चुनाव बीतने के बाद भी आजम के लिए अच्छी खबरें नहीं आ रही हैं।

अब यूपी के शिया वक्फ बोर्ड की नजरें आजम पर टेढ़ी हो गई हैं। बताया जा रहा है कि रामपुर में कम से कम सात सम्पत्तियों पर सपा नेता आजम का कथिततौर पर क’ब्जा था जिसको लेकर शिकाय’त मिलने के बाद जांच की गई थी।

जांच के बाद इन सम्पत्तियों का कार्यवाहक शाही परिवार को बनाया गया है।यूपी शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने रामपुर में कम से कम सात वक्फ संपत्तियों पर क’ब्जा कर लिया है, जिन पर समाजवादी पार्टी के वरिष्ठ नेता आजम खान ने कथित तौर पर क’ब्जा कर लिया था

और उन्हें रामपुर के तत्कालीन शाही परिवार को सौंप दिया था। शिया सेंट्रल वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष अली जैदी,”ऐसे आरो’प थे कि आजम खान ने रामपुर में कई वक्फ संपत्तियों का अ’तिक्रमण किया था

और अपने लोगों को संपत्तियों की संरक्षकता वितरित की थी। रामपुर में कम से कम सात ऐसी संपत्तियां, जिनकी कीमत सैकड़ों करोड़ है, रामपुर नवाब के परिवार के परिवार को वापस कर दी गई है।”

शिया वक्फ बोर्ड के अधिकारी ने बताया कि ऐसे आ’रोप भी थे कि इन संपत्तियों पर काम करने वाले लोगों को पिछले 13 महीनों से वेतन नहीं मिला था। शाही परिवार की बेगम नूरबानो के पोते हैदर अली खान उर्फ​​हमजा मियां को कार्यवाहक बनाया गया है।

खान हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में रामपुर से विधायक चुने गए थे। जमीन हड़पने के कई मामलों में वह इस समय सीतापुर जे’ल में बं’द है। रामपुर पु’लिस रिकॉर्ड के अनुसार, 2017 में राज्य में भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद से आजम खान के खिला’फ 81 मामले दर्ज किए गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.