तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैय्यब एर्दोगन ने 9 जुलाई को कहा था कि तुर्की Turkey और अमेरिका Amrica इस बात पर सहमत हैं कि अफगानिस्तान Afganistan से विदेशी सैनिकों की वापसी के बाद काबुल एयरपोर्ट की सुरक्षा की जिम्मेदारी तुर्की सेना की होगी और तुर्की ने काबुल एयरपोर्ट को सुरक्षा मुहैया कराने का वादा किया है उसके बाद तालिबान Taliban ने दोटूक चेतावनी दे डाली है ।

तालिबान Taliban  ने तुर्की Turkey को चेतावनी दी है कि अगर तुर्की Turkey की सेनाएं अफगानिस्तान Afganistan नहीं छोड़ती हैं तो उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।तालिबान Taliban ने अगले महीने नाटो और अमेरिकी सेना की वापसी के बाद काबुल हवाई अड्डे की सुरक्षा के लिए अफगानिस्तान Afganistan  में तुर्की Turkey  सैनिकों की मौजूदगी का कड़ा विरोध करते हुए कहा है कि जो भी देश विदेशी सैनिकों की पूरी वापसी के बाद यहां रहेगा, उसे कब्जा धारी माना जाएगा।

۔
तालिबान Taliban के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने “अरब न्यूज” Arab News को बताया कि तुर्की Turkey 20 साल से अफगानिस्तान Afganistan में मौजूद है, लेकिन अगर वह अब भी यहां रहना चाहता है, तो मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि तुर्की सेना को कब्जे वाली सेना माना जाएगा। उनके खिलाफ कार्रवाई का फैसला लिया जाएगा!

तालिबान Taliban के प्रवक्ता ने कहा, “तुर्की Turkey एक इस्लामिक देश है और हम उनके साथ अच्छे संबंध रखना चाहते हैं। तुर्की और अफगानिस्तान Afganistan में बहुत कुछ समान है, लेकिन अगर वे हस्तक्षेप करते हैं और अफगानिस्तान Afganistan में अपनी सेना रखते हैं, तो यह तुर्की Turkey  की जिम्मेदारी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.