तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने सूरह अल-फतह के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत करते हुए कहा सभी गवाह हैं कि अफगानिस्तान 20 साल के लंबे युद्ध के बाद आजाद हुआ है। अफगानिस्तान को आजाद कराना न केवल हमारी जीत है बल्कि पूरे देश की जीत है। , कब्जाधारियों को निकालने में कामयाब रहे। उन्होंने कहा कि सभी विदेशियों को अफगानिस्तान में रहने का अधिकार है। हमारा काबुल में दाखिल होने का कोई इरादा नहीं था लेकिन भ्रष्ट शासक समय से पहले भाग गए हमने लोगों की रक्षा के लिए दबाव में काबुल में प्रवेश किया।

जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि काबुल में दूतावासों और ग्रीन जोन को सुरक्षित किया जाएगा और किसी के खिलाफ अफगान धरती का इस्तेमाल नहीं होने दिया जाएगा।अफगान तालिबान के मुखिया के हुक्म पर सबको क्षमा कर दिया गया है। पड़ोसी देशों को हमारे सिद्धांतों का सम्मान करना चाहिए। प्रवक्ता ने कहा कि हम नहीं चाहते कि अफगानिस्तान अब युद्ध का मैदान बने। अफगानिस्तान का इस्लामिक अमीरात आज से किसी से दुश्मनी नहीं करेगा। तालिबान नहीं चाहता कि अफगानिस्तान में युद्ध जारी रहे।अफगानिस्तान के इस्लामी अमीरात में एक राजनीतिक व्यवस्था के गठन के लिए विचार-विमर्श चल रहा है।

“हमने एक आम माफी की घोषणा की है। इसलिए, सरकारी कर्मचारियों को अपने कार्यालयों में आना चाहिए। हवाई अड्डे पर जो लोग है उनको भी घर वापस आ जाना चाहिए। किसी को डरने या परेशान होने की जरूरत नहीं है। हमने माफी की घोषणा की है। जल्द ही काबुल में स्थिति सामान्य स्थिति में लौट आएंगे।”महान शक्ति हार गई है। अफगान लोगों के साथ हमारी कोई दुश्मनी नहीं है। कुछ तत्वों ने अराजकता का फायदा उठाया जिसकी वजह से वो काबुल में दाखिल हुए। महिलाओं के संबंध में उन्होंने स्पष्ट किया कि महिलाओं को इस्लामी सिद्धांतों के अनुसार काम करने की अनुमति दी जाएगी।महिलाएं किसी भी समाज का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और उनका सम्मान करते है।

नई सरकार और व्यवस्था के बारे में पूछे जाने पर प्रवक्ता ने कहा कि अफगानिस्तान के इस्लामी अमीरात में एक राजनीतिक व्यवस्था के गठन के लिए विचार-विमर्श चल रहा है।हम एक ऐसी व्यवस्था चाहते हैं जिसमें जीवन के सभी क्षेत्रों के लोग शामिल हों। हमने 11 दिनों में पूरे अफगानिस्तान पर विजय प्राप्त की है। हम अहंकार के बारे में बात नहीं करते हैं, हम शांति के बारे में बात करते हैं। प्रवक्ता ने दुनिया को आश्वासन दिया कि अफगानिस्तान नशीली दवाओं के उत्पादन का केंद्र नहीं होगा, सीमाएँ हमारे नियंत्रण में हैं, कोई हथियार या मादक पदार्थों की तस्करी नहीं होगी और अगर अफगानिस्तान में ड्रग्स मौजूद हैं, तो इसे नष्ट कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हमें राजनेताओं को सरकार बनाने का मौका देना चाहिए और एक ऐसी व्यवस्था स्थापित करनी चाहिए जो अफगानों की आकांक्षाओं को पूरा करे और किसी भी विदेशी लड़ाके को अफगान क्षेत्र का उपयोग करने की अनुमति नही देंगे । अफगानिस्तान में विदेशी लड़ाकों या किसी समूह को बढ़ने नहीं दिया जाएगा। मैं राजनेताओ से अफगानिस्तान लौटने की मांग करता हूं। हमारी किसी राजनीतिक दल से कोई दुश्मनी नहीं है। जबीहुल्लाह मुजाहिद ने घोषणा की कि पाकिस्तान, रूस और चीन के बीच अच्छे संबंध हैं लेकिन वे न तो सहयोगी हैं और न ही किसी गुट का हिस्सा हैं। पड़ोसी देशों को हमारे सिद्धांतों का सम्मान करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.